Tuesday, April 19, 2011

भाजी से दुखी, आधुनि‍क कबाड़ी वाला, बात में दम है।


---------------x---------------x---------------x---------------
रामदीन ससुराल गया तो उसके ससुराल वालों ने 4 दिनों तक उसे पालक, मैथी, मूली, चौलाई की भाजी और इसी तरह की हरी पौष्टिक चीजें खिलाईं।
पाँचवे दिन भी औपचारिकतावश रामदीन की सास ने उससे पूछा - क्या खाओगे दामाद जी?
रामदीन बोला - खाना क्या है माँ जी, आपको नाहक तकलीफ होती है। आप तो मुझे खेत का रास्ता दिखा दो - मैं खुद ही चर आऊंगा।
---------------x---------------x---------------x---------------
शिक्षक के क्लासरूम में घुसते ही एक बच्चा बोला - 
सर क्या आप मुझे उस काम की सजा देंगे जो मैंने किया ही नहीं?
शिक्षक - बिल्कुल नहीं, मैं ऐसा क्यों करूंगा रामू?
रामू - सर, मैं आज फिर होमवर्क करना भूल गया हूँ।


---------------x---------------x---------------x---------------


4 comments:

  1. रामदीन खेत में चरें
    शिक्षक रामू को सजा न दें
    दरजी पुलिसवाले को सीट बेल्ट का चकमा दें
    और इन सब बातों पर भी हम न हंसें
    तो ये तो बड़ी नाइंसाफी होगी.
    II हरि ऊँ II

    ReplyDelete
  2. सबसे मस्त तो फोटो है.. हाहा :)

    ReplyDelete

फोलो करेंगें तो आपके डेशबार्ड पर चुटकुले तुरन्‍त पहुंच जायेंगे।